आखिरकार विद्या बालन भी बन गई प्रोड्यूसर, जारी किया फ़िल्म 'नटखट' का फ़र्स्ट लुक पोस्टर

loading...
vidya-balan-debuts-as-producer-with-natkhat-short-film-also-playing-lead-role-shares-first-look-poster

नमस्कार दोस्तों एक बार फिर से आप सभी का बॉलीवुड से जुड़ी इस खाश जानकारी में स्वागत करता हूँ. । बॉलीवुड की बेहतरीन एक्ट्रेसेज़ में शुमार विद्या बालन अब प्रोड्यूसर भी बन गयी हैं। विद्या ने नटखट नाम की शॉर्ट फ़िल्म प्रोड्यूस की है, जिसका फ़र्स्ट लुक उन्होंने इंस्टाग्राम पर शेयर किया। विद्या फ़िल्म में लीड रोल भी निभा रही हैं।

फ़र्स्ट लुक पोस्टर में विद्या काफ़ी अलग दिख रही हैं। उन्होंने पोस्टर के साथ लिखा है- एक कहानी सुनोगे? बतौर निर्माता और एक्टर मेरी पहली फ़िल्म का फ़र्स्ट लुक। नटखट को विद्या बालन के साथ रॉनी स्क्रूवाला ने प्रोड्यूस किया है। फ़िल्म में विद्या सुरेखा नाम की मां का किरदार निभा रही हैं। फ़िल्म का निर्देशन शान व्यास का है।

इसके बारे में बात करते हुए विद्या ने कहा- इस फ़िल्म को बनाने की वजह यह है, क्योंकि यह वक़्त की ज़रूरत है। यह बच्चों के शुरुआती सालों में लैंगिक समानता की अहमियत के बारे में बात करती है। ताकि उन्हें ऐसे विचारों से बचाया जा सके, जो समाज में अंदर तक बैठे हुए हैं और जहां हानिकारक पुरुषत्व को सेलिब्रेट किया जाता है।

vidya-balan-debuts-as-producer-with-natkhat-short-film-also-playing-lead-role-shares-first-look-poster

विद्या अक्सर ऐसे मुद्दों पर बोलती रही हैं। लॉकडाउन के दौरान विद्या ने डोमेस्टिक वायोलेंस का मुद्दा सोशल मीडिया के ज़रिए ज़ोरशोर से उठाया था। कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की मदद के लिए आई फॉर इंडिया कैंपेन के तहत फेसबुक पर लाइव फंडरेज़र कॉन्सर्ट का आयोजन किया गया था, जिसमें बॉलीवुड के तमाम सेलेब्रिटीज़ ने अपने-अपने तरीक़े से योगदान दिया।

इस कॉन्सर्ट के ज़रिए विद्या बालन ने घरेलू हिंसा पर एक बेहद ज़रूरी संदेश दिया था। विद्या ने वीडियो संदेश इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया था, जिसमें उन्होंने कहा कि पिछले 100 सालों में दुनिया ने इतनी बड़ी मुश्किल का सामना कभी नहीं किया। इस जानलेवा बीमारी से सेफ रहने के लिए सबको घर में रहना है, यह भी सबको पता है, क्योंकि अपने घर से ज़्यादा सुरक्षित जगह और क्या हो सकती है। पर नहीं। इस मुश्किल वक़्त में हम निराशा, डर, बेचैनी सब महसूस कर रहे हैं. मगर इसका मतलब यह नहीं कि अपनों पर ज़ुल्म करें। यह वक़्त है अपनों से बात करने का। एक-दूसरे का सुख-दुख बांटने का। एक-दूसरे की ढाल बनने का। यह मुश्किल वक़्त गुज़र जाएगा, पर अपनों का साथ हमेशा साथ रहेगा।